स्त्री के ऐसे सोने से आती है दरिद्रता रूठ जाती है लक्ष्मी | Vastu tips - Rice Purity Test

स्त्री के ऐसे सोने से आती है दरिद्रता रूठ जाती है लक्ष्मी | Vastu tips

महिलाओं के ऐसे सोने से रूठ जाती है मां लक्ष्मी धन का नाश होता है आती है दरिद्रता किसी भी स्त्री को ऐसे कभी नहीं सोना चाहिए नमस्कार आपका स्वागत है दोस्तों हमारे प्राचीन ऋषि मुनि अत्यंत ज्ञानी और विद्वान थे

संसार के कल्याण हेतु उन्होंने ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करते हुए जब तक आदि प्रकार के महान कार्य किए हैं उन्होंने अपनी योग विद्या ज्ञान तथा अनुभव के आधार पर प्राचीन शस्त्र और पुराणों का निर्माण किया है तथा

देवताओं द्वारा प्राप्त ज्ञान को भी उन्होंने शास्त्रों के माध्यम से मनुष्यों तक पहुंचाने का उत्तम कार्य किया है हमारे धर्म शास्त्रों में स्त्री और पुरुष दोनों के लिए ही महत्वपूर्ण नियमों का वर्णन किया गया है सुबह जागने से लेकर

रात्रि को सोने तक किए जाने वाले सभी नित्य कर्मों से जुड़े महत्वपूर्ण नियमों के बारे में हमारे शास्त्रों में बताया गया है एक मनुष्य को उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए अपने शरीर को कैसे शुद्ध रखना हैऔर इस शरीर को

पवित्र करने के लिए नित्य कौन से कार्य करने चाहिए इसका वर्णन भी हमारे विद्वान ऋषियों ने किया है श्री कृष्ण कहते हैं मनुष्य को अपने शरीर से अत्यधिक मोह नहीं करना चाहिए किंतु उसे परमात्मा से प्राप्त इस शरीर का नाश भी नहीं करना चाहिए कई बार मनुष्य नाना प्रकार के अनिष्ट कार्य करके अपने पवित्र शरीर को मलिन करते हैं इस दूषित करते हैं तथा पाप युक्त बना देते हैं जिस कारण से शरीर में रोग उत्पन्न होते हैं मनुष्य की

आयु कम होने लगती है और उसे अकाल मृत्यु प्राप्त होती है आज हम बात करने वाले हैं मनुष्य को अपने शरीर को पवित्र कैसे रखना है और रात्रि को सोते समय कौन से नियमों का पालन करना चाहिए खासकर महिलाओं को इस एक महत्वपूर्ण नियम का पालन अवश्य करना चाहिए अन्यथा जीवन में दुर्भाग्य आता है सबसे पहली बात है कि मनुष्य को नित्य स्नान करना चाहिए बिना स्नान किया कभी नहीं रहना चाहिए स्नान से ही शरीर की

शुद्धि होती हैस्नान करने के पश्चात ही मनुष्य देव पूजा आदि धार्मिक कार्य करने के योग्य बन जाता है बिना स्नान किया कभी भोजन तथा पूजा पाठ नहीं करना चाहिए बिना स्नान किया भोजन करने वाले मनुष्य के घर में लक्ष्मी का वास नहीं होता है दोस्तों हमारे सभी धर्म शास्त्रों में बालों के विषय में महत्वपूर्ण ज्ञान दिया गया है मनुष्य को अपने बालों को कैसे रखना चाहिए किस दिन कटवाना चाहिए तथा किस दिन नहीं कटवाना चाहिए बालों को कितना लंबा रखना श्रेष्ठ होता है और बालों से संबंधित क्या तांत्रिक कारण होते हैं इसके बारे में शास्त्रों में बताया गया है दोस्तों हिंदू धर्म में सप्ताह का प्रत्येक दिन किसी न किसी देवता को समर्पित होता है और सप्ताह के

प्रत्येक दिन के कुछ नियम भी आवश्यक होते हैं इसी तरह बाल कटवाने से संबंधित भी कुछ नियम होते हैं जो हर दिन के हिसाब से अलग-अलग बताए गए हैं शास्त्रों के अनुसार मनुष्य को अपने बाल मंगलवार गुरुवार और शनिवार के दिन कभी नहीं कटवाने चाहिएमंगलवार का दिन मंगल ग्रह से संबंधित होता है मंगलवार को बाल काटने से जीवन में क्लेश की स्थिति निर्माण होती है अकारण ही शत्रु निर्माण होते हैं और व्यक्ति का स्वभाव भी क्रोधी बनने लगता है गुरुवार के दिन भी बोल नहीं कटवाने चाहिए इससे गुरु कमजोर होता है तथा व्यक्ति की आयु भी कम होने लगती है इस दिन बाल कटवाने से धन संपत्ति का नाश होता है और दरिद्रता भी आती है

शनिवार के दिन भी बाल कटवाने से मनाई की गई है शनिवार का दिन शनि ग्रह से संबंधित है इस दिन बाल कटवाने से अशुभ घटनाएं घटने लगती है इसीलिए शास्त्रों में मंगलवार गुरुवार और शनिवार के दिन बाल न कटवाने की सलाह दी गई है लेकिन बुधवार शुक्रवार और रविवार का दिन बाल कटवाने के लिए शुभ माना गया है इसमें से शुक्रवार का दिन ही बाल कटवाने के लिए सबसे अधिक शुभ माना जाता है इस दिन बाल कटवाने से जीवन में सुख शांति आती है और धन संपत्ति में वृद्धि होती