इन 7 लक्षणों से पता चलता है की शनिदेव बहुत नाराज है | Shani Dev - Rice Purity Test

इन 7 लक्षणों से पता चलता है की शनिदेव बहुत नाराज है | Shani Dev

नमस्कार आपका स्वागत है शनि देव जो न्याय के देवता वे समस्त सृष्टि के चराचारों को उनके कर्मों के अनुसार फल प्रदान करते हैं शनि सूर्य देव तथा माता छाया के पुत्र है नवग्रह में शनि ही एक ऐसा ग्रह है जिसे सबसे क्रूर

और अग्रह माना गया है हिंदू धर्म में शनिवार शनि देव को समर्पित होता है इसी कारण प्राचीन काल से ही ऋषि मुनि शनिवार के दिन शनि देव की पूजा आराधना करते आ रहे हैं शनि की साडेसाती अथवा सैनिक की भैया

का नाम सुनते ही भले भले जातकों पर भी प्रतिकूल मनोवैज्ञानिक प्रभाव पड़ता है लेकिन जिस प्रकार शनिदेव दोस्तो को डंडे देते हैं उसी प्रकार शनि ईमानदार लोगों के लिए यह स्थान पर और सम्मान देने वाले हैं शनि

संतुलन एवं न्याय के देवता है शनि धाम अर्थ कर्म और न्याय का प्रतीक है शनि की ही कृपा से व्यक्ति को धन संपत्ति वैभव और मोक्ष की प्राप्ति होती है शनि पापी और दुराचारी प्राणियों के लिए अत्यंत दुखदायक है शनिकी

दशा आने पर व्यक्ति के जीवन में कई उतार चढ़ाव आते हैं और उसका जीवन पूरी तरह जाता है परंतु कुछ मनुष्य के लिए सैन्य अत्यंत श्रेष्ठ फलदाई है सूर्यपुत्र शनि मृत्यु लोक एक मात्र से स्वामी है जो व्यक्ति के अच्छे और

बुरे कर्मों के आधार पर उसे दंड आवश्यक देते हैं और उसे सुधारने के लिए प्रेरित करते हैं शास्त्रों के अनुसार अगर व्यक्ति के जीवन में ऐसी घटनाएं घट रही हो तो उसे व्यक्ति को यह समझ जाना चाहिए कि उसे शनिदेव

नाराज है और उसे तुरंत शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए उपाय करने चाहिए आर्सेनी के स्माइल चक्र से मुक्ति पाली नहीं चाहिए लिए आपको बताते हैं जब शनि देव किसी व्यक्ति पर नाराज होते हैं तो उसे व्यक्ति के साथ

क्या होता है लेकिन इससे पहले अगर अपने चैनल को सब्सक्राइब नहीं किया है तो इसे सब्सक्राइब जरूर करें साथ वीडियो को एक लाइक जरुर करें क्योंकि बाद में भूल जाते हैं पहला लक्षण मार्ग से भटकना जैसे कहा गया है यस में देवहा प्राय शांति पुरुष आए पर आप हम बुध्दीमाकर शांतिजिस व्यक्ति के जीवन में पराजय लिखी हो ईश्वर उसकी बुद्धि को पहले ही हर लेते हैं इससे उसे व्यक्ति को अच्छी बातें दिखाई नहीं देती वह केवल

बुरा ही बुरा देख पता है अर्थात उसके पिछले पाप कर्मों के आधार पर शनि देव मनुष्य की बुद्धि ऐसी हर लेते हैं कि उसे आगे बढ़ने का कोई मार्ग दिखाई नहीं देता वह बीच में ही फंस जाता है उसे उन्नति करने का कोई मार्ग नहीं दिखाई देता चारों ओर उसे केवल अपेश और हर ही नजर आती है और वह प्रयत्न भी नहीं कर पाता दूसरी बात कर्ज का बढ़ना शनि जिन व्यक्तियों पर नाराज होते हैं ऐसे व्यक्ति कर्ज की भोज के तहत रहते हैं

आवश्यकता ना होने पर भी बेकार की चीज खरीदने के लिए और बेकार के कामों के लिए पैसे लेते हैं और बर्बाद हो जाते हैं कर्ज का भार बढ़ जाता है और उसे चुका नहीं पाते जीवन में कभी किसी की मदद न करने के

कारण ही व्यक्ति को ऐसी सजा मिलती है हमेशा स्वस्थ करने पर व्यक्ति के जीवन में यह दर्शाती है तीसरी बात बस एन से गिर जाना अगर व्यक्ति वैष्णव से घिरा है अर्थात नशीली चीजों का सेवन करने लगता है अचानक किसी बुरी आदत को अपना लेता है यह उसके पाप कर्मों का ही फल होता है व्यक्ति किसी का दिल दुखता है अथवा माता-पिता को वापस शब्द कहता है कोई भी धर्म कार्य नहीं करता तो उसे शनि देव ऐसा डंडे देते हैं क्यों बुरी